कथाक्रम में, हिन्दी ब्लॉगों पर मस्तराम की पोर्न भाषा का प्रयोग किए जाने की बात करता संपादकीय

लखनऊ से प्रकाशित त्रैमासिक पत्रिका, कथाक्रम के अप्रैल-जून 2010 अंक में हिन्दी ब्लॉगिंग को मस्तराम की पोर्न भाषा सहित द्वेष, प्रतिस्पर्धा, ईर्ष्या, कुंठा से ग्रस्त तथा नितांत असभ्य, सामाजिक रूप से अमान्य शब्दावली का प्रयोग करते बताते हुए, संपादक शैलेंद्र सागर ने एक संपादकीय लिखा

GD Star Rating
loading...
कथाक्रम में, हिन्दी ब्लॉगों पर मस्तराम की पोर्न भाषा का प्रयोग किए जाने की बात करता संपादकीय, 5.0 out of 10 based on 6 ratings
इस पृष्ठ तक आने वाले, सर्च इंजिन से यह शब्द तलाशते आए:
  • मस्तराम
  • मस्तराम की कहानियाँ
  • मस्तराम की कहानी
  • मस्त राम
  • मस् तराम
  • मस्तराम मुसाफिर
  • हिन्दी पोर्न
  • मस्तराम की मस्त कहानियाँ
  • मस्तराम कि कहानी
  • मस्त राम की कहानी
  • मस्तराम की कहानिया

8 thoughts on “कथाक्रम में, हिन्दी ब्लॉगों पर मस्तराम की पोर्न भाषा का प्रयोग किए जाने की बात करता संपादकीय

  1. कुछ गलत नहीं लिखा…

    GD Star Rating
    loading...
  2. हर क्षेत्र में अच्छे बुरे लोग पाए जाते हैं ,लेकिन उस क्षेत्र को ही गलत कह देना समझदारी नहीं और लेखक ने इस बात का जिक्र अपने पहले ही कालम में कर भी दिया है / इतना तय है की आने वाले पाँच वर्षों में ब्लोगिंग एक सशक्त मिडिया के रूप में जरूर उभरेगा और जिसे इस देश की सरकार को भी मानना पड़ेगा /

    GD Star Rating
    loading...
  3. एकदम पाखंडी प्रलाप है। ये डरे हुए लोग हैं।

    GD Star Rating
    loading...
  4. गिरेजेश जी से पूर्ण सहमति है…

    एकदम पाखंड और शुतुरमुर्गी मानसिकता। ये लोग जीवन और कागज को एक दूसरे से एकदम अलग समझते हैं। कलम हाथ में आते ही आभासी जिम्मेदारी के बोझ तले दब जाते हैं और सामान्य से इतर होने के प्रयास में और भी फ़्रस्टेटेड हो जाते हैं।

    जैसा समाज व्यवहार करता है, वैसा ही ब्लाग पर दिखेगा…

    GD Star Rating
    loading...
  5. जमीन खिसक रही है

    GD Star Rating
    loading...
  6. कुछ नहीं कहते, सबको पता ही है.

    GD Star Rating
    loading...
  7. मानव की यह प्रवृत्ति है कि जब भी उसके सामने कोई नया विचार, नयी खोज सामने आती है, तो वह उसके नकारात्मक प्रभावों की ज्यादा चर्चा करता है। यह सम्पादीय इसी मानसिकता के तहत लिखा गया है।

    GD Star Rating
    loading...
  8. सही है।ये डरे हुए लोग हैं।

    GD Star Rating
    loading...

Comments are closed.