गुजरा हुआ ज़माना: आज समाज में ‘अमर सिंह’