ओह!: हिन्दुस्तान में ‘घुघूती बासूती’

2 Responses

  1. पाबला जी, समाचार पत्र वाले तो प्रकाशित कर लेते हैं और खबर भी नहीं करते.आपके इस ब्लौग के कारण हमें भी पता चल जाता है. आभार.
    घुघूतीबासूती

    VA:F [1.9.22_1171]
    Rating: 0 (from 0 votes)
  2. Kavita Rawat says:

    बेटी वाली मानसिकता को बदलने में अभी जाने कितना समय लगेगा……
    सार्थक आलेख के लिए घुघूतीबासूती जी को धन्यवाद और प्रस्तुति हेतु पाबला जी का आभार!

    VA:F [1.9.22_1171]
    Rating: 0 (from 0 votes)