3 दिसंबर 2011 को जनसत्ता के नियमित स्तंभ ‘समांतर’ में कल्पनाओं का वृक्ष बिस्तर पर