अहा! ज़िंदगी में समीर लाल, जगदीश्वर चतुर्वेदी, बी एस पाबला

मासिक पत्रिका, अहा! ज़िंदगी के जुलाई 2011 अंक से इंटरनेट की आभासी दुनिया तथा न्यू मीडिया पर आधारित एक नया स्तंभ ‘एक खिड़की, हजार दरवाज़े’ प्रारंभ किया गया है. इस बार समीर लाल, जगदीश्वर चतुर्वेदी, बी एस पाबला को उद्धृत करते हुए इंटरनेटीय चौपाल की बातें इस पृष्ठ तक आने वाले, सर्च इंजिन से यह […]
Continue reading…