परिकथा में ‘हाहाकार’, ‘अपनी माटी’, ‘शब्दों का सफ़र’, ‘हिन्दी खबरें’, ‘परिकल्पना’, ‘इयत्ता’, ‘हिन्दीकुंज’, ‘जनशब्द’, ‘मृत्युबोध’

परिकथा में ‘हाहाकार’, ‘अपनी माटी’, ‘शब्दों का सफ़र’, ‘हिन्दी खबरें’, ‘परिकल्पना’, ‘इयत्ता’, ‘हिन्दीकुंज’, ‘जनशब्द’, ‘मृत्युबोध’

. द्विमासिक साहित्यिक पत्रिका परिकथा, मई-जून 2011 अंक में हाहाकार, अपनी माटी, शब्दों का सफ़र, हिन्दी खबरें, परिकल्पना, इयत्ता, हिन्दीकुंज, जनशब्द, मृत्युबोध का उल्लेख करते हुए ब्लॉग जगत पर साहित्यिक…

परिकथा में ‘सच्चा शरणम्’, ‘आर्यावर्त’, ‘नई बात’, ‘हिन्दी खबर’, ‘संवदिया हिन्‍दी पत्रिका’, ‘भाषासेतु’, ‘हिन्दीकुंज’, ‘रचनाकार’, ‘प्रवक्ता’

परिकथा में ‘सच्चा शरणम्’, ‘आर्यावर्त’, ‘नई बात’, ‘हिन्दी खबर’, ‘संवदिया हिन्‍दी पत्रिका’, ‘भाषासेतु’, ‘हिन्दीकुंज’, ‘रचनाकार’, ‘प्रवक्ता’

द्वैमासिक साहित्यिक पत्रिका परिकथा, जनवरी-फरवरी 2011 अंक के नियमित स्तंभ ‘ब्लॉग’ में सच्चा शरणम्, आर्यावर्त, नई बात, हिन्दी खबर, संवदिया हिन्‍दी पत्रिका, भाषासेतु, हिन्दीकुंज, रचनाकार, प्रवक्ता आदि का उल्लेख करते…

परिकथा में ‘अनवरत’, ‘अपनी माटी’, ‘ऑब्जेक्शन मी लॉर्ड’, ‘गद्य कोष’, ‘गुल्लक’, ‘चिट्ठा चर्चा’, ‘जनज्वार’, ‘दिल-ए-नादाँ’, ‘नया जमाना’, ‘प्रवक्ता’, ‘शब्द सभागार’, ‘सेतु साहित्य’, ‘हिन्दी खबरें’

परिकथा में ‘अनवरत’, ‘अपनी माटी’, ‘ऑब्जेक्शन मी लॉर्ड’, ‘गद्य कोष’, ‘गुल्लक’, ‘चिट्ठा चर्चा’, ‘जनज्वार’, ‘दिल-ए-नादाँ’, ‘नया जमाना’, ‘प्रवक्ता’, ‘शब्द सभागार’, ‘सेतु साहित्य’, ‘हिन्दी खबरें’

साहित्यिक पत्रिका के नवम्बर-दिसम्बर 2010 अंक में गद्य कोष, सेतु साहित्य, जनज्वार, दिल-ए-नादाँ, गुल्लक, हिन्दी खब्ररें, प्रवक्ता, अनवरत, अपनी माटी, ऑब्जेक्शन मी लॉर्ड, शब्द सभागार, चिट्ठाचर्चा ब्लॉग, नया जमाना का…

परिकथा में ‘अपनी माटी’, ‘अनूभूति’, ‘साहित्यशिल्पी’, ‘कविता हिन्दी युग्म’, ‘आखर कलश’, ‘मास्टरनीनामा’

परिकथा में ‘अपनी माटी’, ‘अनूभूति’, ‘साहित्यशिल्पी’, ‘कविता हिन्दी युग्म’, ‘आखर कलश’, ‘मास्टरनीनामा’

मासिक साहित्यिक पत्रिका, परिकथा के मई-जून 2010 अंक में अपनी माटी, अनूभूति, साहित्यशिल्पी, कविता हिन्दी युग्म, आखर कलश, मास्टरनीनामा सहित कई वेबपत्रिकाओं का जिक्र करते हुए, इंटरनेट पर कवितायों के…

परिकथा में ‘रचनाकार’, ‘वाटिका’, ‘हिन्दयुग्म’, ‘हरकीरत ‘हीर’, ‘हिंदी खबरें’, ‘लिखो यहाँ वहाँ’, ‘कारवाँ’ तथा कई ब्लॉगों का उल्लेख

परिकथा में ‘रचनाकार’, ‘वाटिका’, ‘हिन्दयुग्म’, ‘हरकीरत ‘हीर’, ‘हिंदी खबरें’, ‘लिखो यहाँ वहाँ’, ‘कारवाँ’ तथा कई ब्लॉगों का उल्लेख

द्विमासिक पत्रिका, परिकथा के मार्च-अप्रैल 2010 अंक में कविताकोश, रचनाकार, वाटिका, हिन्दयुग्म, हिंदी साहित्य मंच , हरकीरत ‘हीर‘, आवाज़, हिंदी खबरें, लिखो यहाँ वहाँ, हाहाकार, समकालीन जनमत, कविता कोसी, कारवाँ,…

परिकथा में ढ़ेर सारे ब्लॉगों का जिक्र करता एक लेख

परिकथा में ढ़ेर सारे ब्लॉगों का जिक्र करता एक लेख

परिकथा के जनवरी – फरवरी 2010 अंक के नियमित स्तंभ ‘ब्लॉग’ में आर्यावर्त, शब्दांजलि, अलग सा, दिल की बात, डाकिया, नया जमाना, जनवादी लेखक संघ-इन्दौर, जनतंत्र, बतंगड़, साहित्य सृजन, कुछ…

परिकथा में ‘हिन्दी कुंज’, ‘कथा पंजाब’, ‘पास पड़ोस’, ‘एक ज़िद्दी धुन’, ‘विरोध’, ‘CAVS संचार’, ‘चोखेर बाली’, ‘आज़ाद लब’, ‘मोहल्ला Live’, ‘सृजन गाथा’, ‘उदय प्रकाश’, ‘आवाज़’, ‘हिंदिनी’

परिकथा में ‘हिन्दी कुंज’, ‘कथा पंजाब’, ‘पास पड़ोस’, ‘एक ज़िद्दी धुन’, ‘विरोध’, ‘CAVS संचार’, ‘चोखेर बाली’, ‘आज़ाद लब’, ‘मोहल्ला Live’, ‘सृजन गाथा’, ‘उदय प्रकाश’, ‘आवाज़’, ‘हिंदिनी’

दिल्ली से डॉ नामवर सिंह के सलाहकार संपादन वाली मासिक साहित्यिक पत्रिका ‘परिकथा’ के नवम्बर-दिसम्बर 2009 अंक के एक लेख में हिन्दी कुंज, कथा पंजाब, शरद कोकास, एक ज़िद्दी धुन,…

पत्रिका ‘परिकथा’ में ‘कुछ अलग सा’, ‘रेडियोनामा’, ‘सबद’, ‘जनशब्द’, ‘रचनाकार’, ‘जनतंत्र’ तथा ‘UDAY PRAKASH’

पत्रिका ‘परिकथा’ में ‘कुछ अलग सा’, ‘रेडियोनामा’, ‘सबद’, ‘जनशब्द’, ‘रचनाकार’, ‘जनतंत्र’ तथा ‘UDAY PRAKASH’

दिल्ली से प्रकाशित पत्रिका ‘परिकथा’ के सितम्बर – अक्टूबर 2009 अंक में कुछ अलग सा, रेडियोनामा, सबद, जनशब्द, रचनाकार, जनतंत्र तथा UDAY PRAKASH ब्लॉगों की चर्चा डॉ नामवर सिंह इस…