28 जनवरी 2011 को दिल्ली से प्रकाशित विराट वैभव में फुरसतिया गुलमोहर पर लेख का मजनून सोचते हुए